Friday - 29 May 2020 - 5:40 AM

Kotak Bank को राहत, RBI ने प्रवर्तक की हिस्सेदारी घटाने की दी मंजूरी

न्यूज़ डेस्क

नई दिल्ली। निजी क्षेत्र के कोटक महिंद्रा बैंक ने बुधवार को कहा कि रिजर्व बैंक ने बैंक में प्रवर्तक की हिस्सेदारी कम कर 26% को अपनी अंतिम मंजूरी दे दी है।

इससे पहले बैंक ने 30 जनवरी को कहा था कि आरबीआई ने नियामक की अंतिम मंजूरी की तारीख से छह महीने के भीतर प्रवर्तक की हिस्सेदारी घटाकर चुकता शेयर पूंजी का 26% करने को सैद्धांतिक मंजूरी दे दी है।

ये भी पढ़े: एक बार फिर अखिलेश पर भारी पड़ गईं प्रियंका

आरबीआई ने बैंक से प्रवर्तकों की हिस्सेदारी कम कर 31 मार्च 2018 तक चुकता शेयर पूंजी का 20% और 31 मार्च 2020 तक 15% करने को कहा था।

कोटक महिंद्रा बैंक ने शेयर बाजार को दी सूचना में कहा कि रिजर्व बैंक ने 18 फरवरी 2020 को पत्र के जरिये प्रवर्तक की बैंक में हिस्सेदारी कम करने को मंजूरी दे दी है।

ये भी पढ़े: शरद यादव को तेजस्वी से नहीं है कोई बैर, बदले सुर

बैंक ने यह भी कहा कि वह प्रवर्तक की हिस्सेदारी कम करने के संदर्भ में आरबीआई के खिलाफ बंबई उच्च न्यायालय में दायर मामले को वापस ले रहा है।

बैंक में फिलहाल प्रवर्तक और प्रवर्तक समूह की हिस्सेदारी 29.96% है। कोटक महिंद्रा बैंक के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यपालक अधिकारी उदय कोटक प्रवर्तक भी हैं।

उल्लेखनीय है कि अगस्त 2018 में बैंक ने प्रवर्तक की हिस्सेदारी कम कर 19.70% करने के लिये तरजीही शेयर जारी करने का प्रस्ताव किया था, जिसे आरबीआई ने खारिज कर दिया। उसके बाद बैंक ने आरबीआई के फैसले को बंबई उच्च न्यायालय में चुनौती दी।

आरबीआई के बैंक लाइसेंस नियम के अनुसार निजी बैंक के प्रवर्तक को तीन साल में अपनी हिस्सेदारी 40%, 10 साल में 20% और 15 साल में 15% करने की जरूरत है।

कोटक महिंद्रा समूह की वित्तीय इकाई कोटक महिंद्रा फाइनेंस को 2003 में आरबीआई से बैंक लाइसेंस मिला। वह बैंक में तब्दील होने वाली पहली एनबीएफसी (गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी) बनी।

ये भी पढ़े: महंत नृत्य गोपाल दास बने राम मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष, चंपत राय महासचिव

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com