Wednesday - 27 October 2021 - 2:38 PM

RBI ने इस बैंक का किया लाइसेंस कैंसिल, जारी हुआ नोटिस

जुबिली न्यूज़ डेस्क

नई दिल्ली। भारतीय रिजर्व बैंक ने माइक्रो फाइनेंस कंपनी संबंध फिनसर्व प्राइवेट लिमिटेड का लाइसेंस रद्द करने की तैयारी कर रहा है। आरबीआई ने लाइसेंस रद्द करने से पहले आर्थिक संकट का सामने कर रहे और घोटाले के आरोपों से घिरे इस बैंक को कारण बताओ नोटिस जारी किया है।

एक अंग्रेजी वेबसाइट की रिपोर्ट के अनुसार बैंक का नेटवर्थ RBI द्वारा तय की गई लिमिट से कम होने लगा और हाल के महीनों में बैंक की वित्‍तीय भी काफी खराब हुई है। इसी के मद्देनजर RBI अब बैंक का लाइसेंस रद्द करने जा रहा है।

ये भी पढ़े:वैक्सीन लेने के बाद से कितने दिनों तक है कोरोना से सुरक्षित?

ये भी पढ़े: कोरोना से बचाने में कितना कारगर है डबल मास्क

रिपोर्ट में बताया गया कि ‘संबंध फिनसर्व’ को आरबीआई ने कारण बताओ नोटिस जारी कर पूछा है कि आखिर उसका लाइसेंस रद्द क्यों नहीं किया जाना चाहिए? बैंक के नेटवर्थ में बड़ी गिरावट देखने को मिली है।

रिपोर्ट में यह भी दावा किया गया है कि बैंक का लाइसेंस रद्द करने की प्रक्रिया भी शुरू हो गई है। हालांकि, रिजर्व बैंक ने फिलहाल इस बारे में कोई बयान जारी नहीं किया है और न ही ‘संबंध फिनसर्व’ की तरफ से ऐसी कोई जानकारी सामने आई है।

ये भी पढ़े:दिल्ली के सर गंगाराम अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी, 24 घंटे में 25 की मौत

ये भी पढ़े: ऑक्सीजन की कमी पर रोते अस्पताल के सीईओ का वीडियो देख सुष्मिता सेन ने क्या कहा?

आपको बता दें कि संबंध फिनसर्व का रजिस्ट्रेशन NBFC-MFI के तौर पर हुआ है। RBI के नियमों के तहत, नॉन-बैंकिंग फाइनेंस कंपनी के लिए टियर-1 और टियर-2 के तौर पर एक निश्चत कैपिटल बनाए रखना अनिवार्य होता है।

साथ ही यह अमाउंट उनके कुल जोखिम यानी aggregate risk-weighted assets का कम से कम 15% होना चाहिए। मार्च 2020 में संबंध फिनसर्व का ऐसेट्स अंडर मैनेजमेंट 461 करोड़ रुपए था। कोपनी को इस दौरान 5.22 करोड़ रुपए का प्रॉफिट भी हुआ। साथ ही इसका NPA 0.67% था।

फिनसर्व में हुए स्कैम का मुख्य आरोपी कंपनी के CEO दीपक किंडो को बताया जा रहा है जिसे चेन्नीई के इकोनॉमिक ऑफेंस विंग ने गिरफ्तार किया था। दरअसल, पिछले साल 7 अक्टूरबर को सीनियर मैनेजमेंट नें बैंक निदेशक बोर्ड को एक लेटर लिखा, जिसमें कहा गया कि बैंक के MD दीपक किंडो मैनेजमेंट के साथ मिलकर वित्तम वर्ष 2015-16 से ही बैंक के फाइनेंशियल बुक के साथ छेड़छाड़ कर रहे हैं।

दीपक किंडो और क्रेडिट हेड की देखरेख में हो रहा था। लेटर में कहा गया कि बैंक का एसेट अंडर मैनेजमेंट पोर्टफोलियो 140 करोड़ रुपए का हैष जबकि, कंपनी ने बताया कि AUM 391 करोड़ रुपए का है यानी 251 करोड़ का स्कैम हुआ है।

ये भी पढ़े:कौन है 20 वर्षीय देवदत्त पडिक्कल, जिसके आगे विराट भी लगे फीके

ये भी पढ़े: ‘सॉरी’… मुझे पता नहीं था कि ये कोरोना वैक्सीन है … और फिर चोर ने लौटाई वैक्सीन

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com