Sunday - 11 April 2021 - 10:33 PM

‘परीक्षा पे चर्चा’ में क्या बोले पीएम मोदी

जुबिली न्यूज़ डेस्क

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्टूडेंट्स, टीचर्स और पैरेंट्स से ‘परीक्षा पे चर्चा’ की। उन्होंने परीक्षा को बहुत छोटा सा पड़ाव बताते हुए कहा कि जिंदगी अभी बहुत लंगी है। इस दौरान कई पड़ाव आते रहते हैं। हमें दबाव नहीं बनाना चाहिए, फिर चाहे वह टीचर हो, स्टूडेंट हो, परिवार वाले हों या फिर दोस्त ही क्यों न हों।

ये भी पढ़े: यूपी बोर्ड परीक्षा को मिली नयी तारीख, जानिए कब होगी शुरुआत

Image

प्रधानमंत्री ने कहा कि अगर बाहर का दबाव कम हो गया या खत्म हो गया तो एग्जाम का दबाव कभी महसूस नहीं होगा। वर्चुअल तरीके से आयोजित हुए कार्यक्रम में पीएम मोदी ने कई स्टूडेंट्स के सवाल भी लिए और उसके जवाब दिए। उन्होंने अपनी स्टाइल भी बताई। पीएम मोदी ने कहा कि वे सबसे पहले मुश्किल काम करते हैं।

ये भी पढ़े: यूपी में कोरोना ने मचाया हाहाकार, लखनऊ में हालात खराब

Image

‘परीक्षा पे चर्चा’ कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपना अनुभव भी साझा किया। उन्होंने कहा कि जब मैं मुख्यमंत्री था, उसके बाद मैं प्रधानमंत्री बना तो मुझे भी बहुत कुछ पढ़ना पढ़ता है। बहुत कुछ सीखना पड़ता है। चीजों को समझना पड़ता है। तो मैं क्या करता हूं कि जो मुश्किल बातें होती हैं, मैं सुबह शुरू करता हूं तो कठिन चीजों से शुरू करना पसंद करता हूं।

ये भी पढ़े: सचिन वाझे का ये लेटर अनिल देशमुख की उड़ा देगा नींद

Image

मुश्किल से मुश्किल चीजें मेरे अफसर मेरे सामने लेकर आते हैं, उनको मालूम होता है कि मेरा अलग मूड है। मैं चीजों को काफी तेजी से समझ लेता हूं। फैसला करने की दिशा में आगे बढ़ता हूं। मोदी ने कहा कि सुबह होते ही मैं कठिन चीजों से मुकाबला करने निकल जाता हूं।

ये भी पढ़े: जून से बीआईएस हॉलमार्किंग के ही बिकेंगे गहने, अब आगे नहीं बढ़ेगी तारीख

Image

प्रधानमंत्री मोदी ने कार्यक्रम में कहा कि आपको डर एग्जाम का नहीं है, आपको डर किसी और का है और वह क्या है? आपके आस-पास एक माहौल बना दिया गया है कि यही एग्जाम सब कुछ है, यही जिंदगी है। हम थोड़ा ज्यादा सोचने लग जाते हैं।

ये भी पढ़े: मुख्तार अंसारी की विधानसभा सदस्यता पड़ सकती है खतरे में

Image

परीक्षा जीवन को गढ़ने का एक अवसर है, उसे उसी रूप में लेना चाहिए। हमें अपने आप को कसौटी पर कसने के मौके खोजते ही रहना चाहिए, ताकि हम और अच्छा कर सकें। हमें भागना नहीं चाहिए।

ये भी पढ़े: शिवराज का स्वास्थ्य आग्रह संपन्न, कोरोना रोकने की अनेक घाेषणाएं

पीएम मोदी ने कहा हमारे यहां एग्जाम के लिए एक शब्द है- कसौटी। मतलब खुद को कसना है, ऐसा नहीं है कि एग्जाम आखिरी मौका है। बल्कि एग्जाम तो एक प्रकार से एक लंबी जिंदगी जीने के लिए अपने आप को कसने का उत्तम अवसर है।

ये भी पढ़े: माता रानी की कृपा पानी है तो नवरात्रि व्रत में रखें इसका ध्यान

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com