Sunday - 29 January 2023 - 4:36 AM

अब चीन मचा रहा शोर, कहा- US लैब से फैला कोरोना

जुबिली न्यूज डेस्क

चोरी ऊपर से सीनाजोरी, यह कहावत चीन पर एकदम फिट बैठती है। पूरी दुनिया जानती है कि कोरोना का पहला मामला चीन के बुहान शहर में मिला था। लेकिन चीन इस थ्योरी को बदलने की कोशिश में जुटा हुआ है।

चीन बड़ी ही चालाकी से यह खबर फैलाने की कोशिश कर रहा है कि कोरोना वायरस के सबसे पहले अमेरिका से फैला है। चीन में ऐसा ही शोर है।

चीन में बकायदा गानों, फेसबुक पोस्ट और अन्य सोशल मीडिया मंच के जरिये यह खबर फैलाई जा रही है कि अमेरिका के मेरीलैंड स्थित फोर्ट डेट्रिक सैन्य अड्डे की लैब में कोरोना वायरस को तैयार किया गया। कोरोना की उत्पत्ति को लेकर अमेरिकी जांच रिपोर्ट के आने से पहले ही चीन में इस बेबुनियाद खबर का प्रसारण तेज हो गया है।

यह भी पढ़ें : घोटाले से अछूता नहीं रहा कुम्भ भी, आपदा राहत का पैसा भी हजम, CAG रिपोर्ट में हुआ खुलासा

यह भी पढ़ें : पंजाब कांग्रेस के अंदरखाने चल रही सरकार का कैप्टन बदलने की तैयारी

विशेषज्ञों के मुताबिक, चीन ऐसा घरेलू माहौल बनाने में कामयाब रहा है कि कोरोना संक्रमण को लेकर चीन की अंतरराष्ट्रीय आलोचना पर उसके नागरिक संशय करने लगें।

चीन में पिछले कुछ सप्ताह से लोग इस खबर की चर्चा कर रहे हैं, लेकिन बाहर के देशों में इसका कोई असर नहीं है। आक्रामक कूटनीति में विश्वास करने वाले झाओ का ‘वायरस की अमेरिकी उत्पत्ति’  संबंधी इस खबर के प्रसारण में अहम योगदान है।

खबर पर गाना बनाया

चीन में तो अमेरिका में कोरोना वायरस के बनाए जाने को लेकर गाना तक बना दिया गया है। गाने के बोल हैं- फोर्ट डेट्रिक का दरवाजा खोलो, गोपनीय सीक्रेट से परदा उठाओ…। इस गाने को चीनी अधिकारी धड़ल्ले से सोशल मीडिया में साझा कर रहे हैं।

10 करोड़ लोगों ने देखा हैशटैग फोर्ट डेट्रिक को चीन में ट्विटर जैसे सोशल मीडिया मंच वीबो पर हैशटैग ‘फोर्ट डेट्रिक’ से संबंधित खबर को 10 करोड़ से अधिक लोगों ने देखा।

सबसे पहले झाओ के ही ट्वीट से लोगों का ध्यान फोर्ट ड्रेट्रिक पर गया। उन्होंने ट्वीट किया था-फोर्ट डेट्रिक स्थित बायोलैब को बंद करने का क्या कारण है। इसके बाद चीन की सरकारी सीसीटीवी ने इस खबर पर स्पेशल रिपोर्ट देना शुरू कर दिया।

यह भी पढ़ें : मन्दिर में भरा मांग में सिन्दूर मन भर गया तो अब दूसरी शादी की तैयारी

यह भी पढ़ें : डंके की चोट पर : कल्याण सिंह ने बताया था कहाँ झुकता है उनका सर

अमेरिकी विशेषज्ञ पर आरोप

चीन का सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने अमेरिका से कोरोना के फैलने को लेकर एक अलग थ्योरी दी है। इस अखबार के अनुसार फोर्ट डेट्रिक में शोध कर रहे अमेरिका के विशेषज्ञ डॉ. राल्फ बारिक ने कोरोना वायरस को बनाया।

जांच के लिए हस्ताक्षर अभियान

इतना ही नहीं ग्लोबल टाइम्स ने एक ऑनलाइन हस्ताक्षर अभियान चलाया है। इसके तहत चीनी इंटरनेट यूजर्स से अपील की जा रही है कि वह खुला पत्र लिखकर डब्ल्यूएचओ से फोर्ट डेट्रिक में जांच करने की मांग करें। अब तक 2.5 करोड़ हस्ताक्षर एकत्र किए गए हैं।

क्या है फोर्ट डेट्रिक

फोर्ट डेट्रिक एक अमेरिकी सैन्य अड्डा है जो अमेरिका के मेरीलैंड में स्थित है। 13 हजार एकड़ में फैले इस सैन्य अड्डे का इस्तेमाल वर्ष 1931 से किया जा रहा है।

साल 1943 से वर्ष 1969 तक यहां स्थित प्रयोगशाला में बायोलॉजिकल हथियार पर गहन शोध का प्रोग्राम चलाया गया। इस प्रोग्राम के बंद होने पर भी यहां अमेरिकी बायोलॉजिकल डिफेंस से जुड़े अन्य प्रोग्राम चलते रहे हैं।

यह भी पढ़ें :  सोनू सूद ने चुनाव लड़ने को लेकर क्या कहा

यह भी पढ़ें :  500 रुपये में मिल रहा है वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट

यहां की लैब में इबोला और स्मालपॉक्स वायरस पर काफी अध्ययन किए गए। यहीं पर सेना का मेडिकल रिसर्च एंड डेवलपमेंट कमांड और नेशनल कैंसर इंस्टीट्यूट भी है। अगस्त, 2019 में यहां एक घातक जीवाणु पर चल रहे अनुसंधान कार्य को सुरक्षा कारणों से अचानक बंद करना पड़ा।

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com