Thursday - 24 September 2020 - 12:48 PM

तबाही के बाद इस शहर में नहीं बचा एक महीने का भी अनाज

जुबिली न्यूज़ डेस्क

पेरिस। लेबनान की राजधानी बेरूत में भयानक विस्फोट के बाद जहां बचाव अभियान में जुटे कर्मी शवों की गिनती और मलबों में जिंदा लोगों की तलाश में जुटे हैं, वहीं कई देशों ने संकटग्रस्त देश की मदद के लिए हाथ बढ़या है।

धमाके की वजह से बंदरगाह में बना एक विशाल अन्नागार भी बर्बाद हो गया है। ये खाद्य भंडार पूरे लेबनान का सबसे बड़ा भंडार था। न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक अब लेबनान के पास एक महीने से कम वक्त के लिए अनाज नहीं बचा है।

ये भी पढ़े: अब Google ने ऐसा दिया चीन को झटका

ये भी पढ़े: कैंसर से हार गईं शानदार लेखिका सादिया देहलवी

लेबनान पहले से ही आर्थिक संकट से गुजर रहा है और इस संकट में उसकी मुश्किल को और बढ़ा दिया है। इस विस्फोट से कम से कम 135 लोगों की मौत हो चुकी है और हजारों घायल हैं। ऑस्ट्रेलिया से लेकर इंडोनेशिया और यूरोप से लेकर अमेरिका तक सहायता पहुंचाने और तलाश दल को भेजने के लिए तैयार हैं।

ये भी पढ़े: यूपी के इन जिलों के 666 गांव बाढ़ से परेशान

ये भी पढ़े: आपका बच्चा सैनेटाइज़र का ज्यादा इस्तेमाल करता है तो ये खबर आपके लिए है

वहीं, यूरोपीय संघ अपने नागरिक बचाव तंत्र का इस्तेमाल करके आपात कर्मियों और उपकरणों कों भेज रहा है। संघ के आयोग ने कहा कि उसकी योजना तत्काल वाहनों के साथ 100 दमकल कर्मियों, खोजी कुत्ते और उपकरण भेजने की है, ताकि शहरी क्षेत्र में फंसे लोगों का पता लगाया जा सके।

चेक रिपब्लिक, जर्मनी, ग्रीस, पोलैंड और नीदरलैंड भी सहयोग के लिए आए हैं और कई अन्य देश में भी इस प्रयास में जुट सकते हैं। साइप्रस भी बचाव कर्मियों का दल और खोजी कुत्ते भेज रहा है। रूस ने मोबाइल अस्पताल स्थापित किए हैं और 50 आपातकर्मी और चिकित्सा कर्मियों को भेजा है।

ये भी पढ़े: सावधान : प्याज से फैल रहा नये तरह का संक्रमण

ये भी पढ़े: सुशांत सिंह मौत मामला : CBI ने रिया के साथ इन लोगों को बनाया आरोपी

इसके अलावा रूस के तीन और विमान अगले 24 घंटे में लेबनान पहुंचने वाले हैं। ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री ने शुरुआत में 20 लाख ऑस्ट्रेलियाई डॉलर की मदद लेबनान को देने का संकल्प लिया है, ताकि राहत कार्य में सहायता पहुंचाई जा सके।

प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने आज कहा कि यह सहायता विश्व खाद्य कार्यक्रम और खाद्य, देखभाल और जरूरी सामान के लिए रेड क्रॉस को दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि उनका देश अन्य खेप पर विचार कर रहा है।

ये भी पढ़े: मनोज सिन्हा बने जम्मू-कश्मीर के दूसरे उपराज्यपाल, ऐसे शुरू हुआ था राजनीतिक करियर

ये भी पढ़े: पहली बार सरकार ने माना कि मई में चीन ने की थी घुसपैठ

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com