Saturday - 3 December 2022 - 9:00 AM

डूब गए ताल तलैया, तंत्र के भ्रष्टाचार से डूब गई रामनगरी टाउन प्लान की नइया..

ओम प्रकाश सिंह
  • जनता के सवालों पर जनप्रतिनिधियों का नैतिक साहस भी पानी में गया डूब..

    अयोध्या। रामनगरी के एक मुहल्ले का नाम ही है जलवानपुरा, बरसात व सरकारी तंत्र की पहली मार यही झेलता है। दो दिन से हो रही बारिश ने अयोध्या व जुड़वा शहर फैजाबाद के साथ गांव गिरांव को नरकीय स्थिति में ढकेल दिया है। जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है।बरसात तो कहर ढा ही रही, जिले के तमाम गांवों में तीन दिन से बिजली भी गोल है। अयोध्या विकास प्राधिकरण के भ्रष्टाचार में आकंठ डूबी राम नगरी पानी पानी हो गई है। जनता के सवालों पर जनप्रतिनिधियों का नैतिक साहस भी पानी में डूब गया है। उच्च स्तरीय नगरीय व्यवस्था के जिम्मेदार नगरनिगम के हवाई दावे भी बारिश के आगे पानी में बह गए। महराजगंज थाना क्षेत्र के एक गांव में छप्पर पर पेड़ गिरने से एक बालिका की मौत हो गई है। दो बालिकाएं घायल हैं।

बिना ले आउट पास हुए बसे अयोध्या महानगर के विकास की पोल तो हल्की बारिश ही खोल देती है। बारिश जब मूसलाधार हो तो रामनगरी पानी पानी हो जाती है। दो दिन की बारिश ने गांव की ताल तलैयों को डूबो दिया है। बारिश हो या जाड़ा, गर्मी इनकी दैवीय मार झेलने के लिए गांव सदियों से अभ्यस्त हैं। आधुनिकता का लबादा ओढ़े शहर त्राहिमाम कर उठते हैं और इसके लिए सरकारी मशीनरी के साथ शहरवासी स्वयं भी जिम्मेदार हैं। यह भी गौरतलब है कि बाढ़ आने पर नदियों के बंधों पर बोल्डर गिराए जाते हैं और बरसात होने पर शहरों के नालों की सफाई, कारण आपात स्थिति के नाम पर धन की बंदरबांट।

विश्वस्तरीय बन रहे अयोध्या रेलवे स्टेशन और भव्य राम मंदिर के बीच स्थित है जलवानपुरा मोहल्ला। यह भी भी बिना ले आउट पास किए हुए बना हुआ है। विकास प्राधिकरण के भ्रष्टाचार का तापमान नापने के लिए जलवान पुरा की नब्ज सबसे सटीक है। जलवान पुरा कॉलोनी में घरो में एक मंजिल तक पानी भर गया है। निगम के नगर आयुक्त और अयोध्या के कमिश्नर से कॉलोनी वासियों ने लगाई गुहार है। भारी बारिश के कारण कॉलोनी में भयंकर जल भराव हुआ है। छोटे-छोटे बच्चों के साथ छतों पर शरण लेने के लिए कॉलोनीवासी मजबूर हैं। कमिश्नर अयोध्या ने पंप लगाकर पानी निकालने के लिए निर्देश दिया है।

ये भी पढ़ें-पंजाब पुलिस के AIG गिरफ्तार, महिला ने लगाया ये गंभीर आरोप

अयोध्या रेलवे स्टेशन से लेकर मठ मंदिरों और कॉलोनियों में पानी घुस गया है। दंत धावन कुंड चौराहे पर पेड़ गिरने से मुख्य मार्ग बाधित हुआ। अयोध्या रेलवे स्टेशन में पानी का रेला है।रेलवे स्टेशन की स्केनर मशीन पानी में जलमग्न हो गई।रिजर्वेशन काउंटर भी पानी में डूबा। संपूर्ण रेलवे स्टेशन में पानी ही पानी है। सप्त सागर कॉलोनी में भी पानी ने तबाही मचाया है। फैजाबाद शहर में भी घरों के अंदर तक पानी प्रवेश कर गया है। तमाम सड़कों पर दो फीट से ज्यादा पानी का बहाव है। दो पहिया वाहनों के साइलेंसर में पानी घुस जाने से लोग वाहनों को घसीटते दिखाई पड़े।

भाजपा नेता विशाल मिश्र ने अयोध्या में निश्चित कार्यपद्धति के अभाव में होने वाले अनियोजित विकास कार्यों में सार्वजनिक धन के अपव्यय को लेकर मुख्यमंत्री व उप मुख्यमंत्री को पत्र लिखा है। उनका कहना है कि प्रशासन की अनियोजित कार्यशैली के कारण धर्मनगरी की विकास योजनायें दम तोड़ती नज़र आ रही है। नदी, तालाब, प्रकृति पर कार्य कर रहे अभिषेक दूबे का कहना है कि बेहतर ड्रेनेज अति वर्षा का विकल्प है। स्थाई समस्या समाधान के लिए कब्जामुक्त तालाब होने चाहिए। वर्षा जल वरदान है जिसे तालाबों में संजोना होगा, नदी के रास्ते बहा देने से प्राकृतिक संतुलन बिगड़ जाता है।

ये भी पढ़ें-सिंगल रहने के होते हैं ये बड़े फायदे, जानकर हो जाएंगे दंग

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com