Thursday - 29 September 2022 - 10:06 AM

जम्‍मू-कश्‍मीर पर कांग्रेस ने खेला हिंदू-मुस्लिम कार्ड

न्‍यूज डेस्‍क

जम्‍मू-कश्‍मीर में अनुच्‍छेद 370 हटाए जाने के बाद से ही लगातार इस मसले में बहस जारी है। केंद्र सरकार जहां जम्‍मू-कश्‍मीर से विशेष राज्‍य का दर्जा समाप्‍त करने के फैसले को लेकर अपनी पीठ थपथपा रही है और अपने इस साहसी कदम को सही साबित करने में लगी हुई हैं। वहीं, दूसरी ओर कांग्रेस समेत कई विपक्षी दल मोदी सरकार के  इस फैसले को अलोकतांत्रिक बता रही है। पार्टी के कई बड़े नेता मोदी सरकार के इस कदम की आलोचना कर रहे हैं।

हिंदू-मुस्लिम कार्ड

कांग्रेस पूर्व अध्‍यक्ष राहुल गांधी और राज्‍यसभा में नेता विपक्ष गुलाम नबी आजाद पहले से मोदी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है। वहीं अब पूर्व केंद्रीय गृहमंत्री और कांग्रेस पार्टी के वरिष्‍ठ नेता पी चिदंबरम भी मैदान में उतर आएं हैं। हालांकि उन्‍होंने जम्‍मू-कश्‍मीर से संविधान के अनुच्छेद 370 के ज्यादातर प्रावधानों को समाप्त करने पर हिंदू-मुस्लिम कार्ड खेला है।

बीजेपी सरकार की आलोचना करते हुए उन्‍होंने कहा कि यदि जम्मू-कश्मीर हिंदू बहुल राज्य होता तो भगवा पार्टी इस राज्य का विशेष दर्जा ‘नहीं छीनती।’  पूर्व केन्द्रीय मंत्री ने आरोप लगाया कि यदि जम्मू-कश्मीर हिंदू बहुल राज्य होता तो बीजेपी कभी भी ऐसा नहीं करती। उन्होंने ऐसा केवल इसलिए किया क्योंकि यह मुस्लिम बहुल है।

बीजेपी हमारे नेता को चुरा रहे

चिदंबरम ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू और पूर्व गृह मंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल के बीच कभी भी संघर्ष की स्थिति नहीं थी। उन्होंने कहा कि पटेल कभी भी आरएसएस के पदाधिकारी नहीं रहे थे। बीजेपी के पास नेता नहीं है, वे हमारे नेता को चुरा रहे हैं। कोई फर्क नहीं पड़ता कि कौन चोरी करता है, इतिहास यह नहीं भूलता कि कौन किससे जुड़ा हुआ है।

मीडिया पर लगाया आरोप 

चिदंबरम ने कहा कि बीजेपी ने अपनी ताकत से अनुच्छेद 370 को समाप्त किया। उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर अस्थिर है और अंतरराष्ट्रीय समाचार एजेंसियां इस अशांत स्थिति को कवर कर रही हैं लेकिन भारतीय मीडिया घराने ऐसा नहीं कर रहे हैं। कांग्रेस नेता ने कहा कि मोदी सरकार का दावा है कि कश्मीर में हालात ठीक हैं। अगर भारतीय मीडिया घराने जम्मू-कश्मीर में अशांति की स्थिति को कवर नहीं करते हैं तो क्या इसका मतलब स्थिरता होता है?’

उन्होंने सात राज्यों में सत्तारूढ़ 7 क्षेत्रीय दलों को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि उन्होंने राज्यसभा में बीजेपी के कदम के खिलाफ ‘भय’ के कारण सहयोग नहीं किया। विपक्षी पार्टियों के असहयोग पर असंतोष व्यक्त करते हुए चिदंबरम ने कहा, ‘हमें पता है कि लोकसभा में हमारे पास बहुमत नहीं है लेकिन 7 पार्टियों (एआईएडीएमके, वाईएसआरसीपी, टीआरएस, बीजेडी, आप, टीएमसी, जेडीयू ने सहयोग किया होता तो विपक्ष राज्यसभा में बहुमत में होता। यह निराशाजनक है।’

कांग्रेस नेता ने कहा कि जम्मू-कश्मीर के सौरा क्षेत्र में लगभग 10 हजार लोगों ने विरोध किया जो एक सच है, पुलिस ने कार्रवाई की जो एक सच है और इस विरोध के दौरान हुई गोलीबारी एक सच्चाई है। उन्होंने कहा कि देश के 70 साल के इतिहास में ऐसा कभी कोई उदाहरण नहीं आया जब एक राज्य को केन्द्रशासित प्रदेश बना दिया गया हो।

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com