Wednesday - 3 June 2020 - 8:43 PM

किस देश में लॉकडाउन का पालन न करने पर पुलिस ने मारी गोली

न्यूज डेस्क

इस समय पूरी दुनिया कोरोना वायरस से जंग लड़ रही है। जहां कई देश कोरोना को मात देने में कामयाब होते दिख रहे हैं तो वहीं कई देश कोरोना के आगे बेबश दिख रहे हैं। यह लड़ाई कितने दिनों तक चलेगी किसी को नहीं मालूम, लेकिन हर कोई इससे निपटने के लिए सख्ती दिखा रहा है। कहीं लॉकडाउन का पालन न करने पर कठोर सजा का प्रावधान किया गया है तो कहीं “शूट एट साइट” का है आदेश दे दिया गया है।

दुनिया के अधिकांश देशों में लॉकडाउन है। ऐसे वक्त में सिर्फ स्टोर और दवा की दुकानें खुली हुई हैं। जहां भारत जैसे देशों में लोगों को सिर्फ सामान लेने के लिए घरों से निकलने की छूट है, वहीं जर्मनी में सैर पर भी जाने की छूट मिली हुई है। वहीं फिलीपींस में इससे भी ज्यादा सख्ती है।

दुनिया के बाकी देशों की तरह फिलीपींस में भी कोरोना वायरस के कारण लॉकडाउन जारी है। यहां लॉकडाउन का पालन ना करने पर “शूट एट साइट” के आदेश जारी हैं। फिलीपींस की सख्ती का अंदाजा ऐसे लगाया जा सकता है कि यहां एक व्यक्ति ने लॉकडाउन का पालन नहीं किया तो पुलिस ने गोली मार दी।

यह भी पढ़े:  स्मार्टफोन की मदद से सिंगापुर कैसे रोक रहा है कोरोना

63 वर्षीय एक व्यक्ति की पुलिस की गोली लगने से मौके पर ही जान चली गई। हालांकि यह पहला मौका है जब फिलीपींस से लॉकडाउन का उल्लंघन करने वाले पर गोली चलाने की खबर सामने आई है।

स्थानीय रिपोर्टों के अनुसार इस व्यक्ति ने शराब पी रखी थी और वह हाथ में दराती लिए घूम रहा था। वहीं पुलिस रिपोर्ट के अनुसार, “मास्क ना लगाने के कारण गांव के एक स्वास्थ्य अधिकारी ने संदिग्ध को चेतावनी दी, लेकिन संदिग्ध गुस्सा हो गया, अश्लील शब्दों का इस्तेमाल करने लगा और फिर उसने अधिकारी पर दराती से हमला भी किया।” इसलिए पुलिस ने उसे गोली मार दी।

फिलीपींस में 16 मार्च से लॉकडाउन लागू है। सभी दफ्तर बंद है। सिर्फ जरूरत के सामान की दुकानें खुली हैं। यहां बाहर निकलने पर मास्क लगाना अनिवार्य है। दो अप्रैल को फिलीपींस सरकार ने नियम बनाया कि जरूरत का सामान लेने के लिए घर से बाहर जो भी निकलेगा, बिना मास्क के नहीं निकलेगा।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार सरकारी अधिकारी कार्लो नोगरालेस ने कहा, “मैं दोहराता हूं, अगर आपको घर से बाहर जाने की जरूरत पड़ती है, तो आपको मास्क लगाना होगा।” उन्होंने यह भी कहा कि जरूरी नहीं है कि हर किसी के पास मेडिकल मास्क उपलब्ध हो, लेकिन किसी भी तरह मुंह और नाक ढंके रहने चाहिए फिर चाहे रुमाल से या घर में बने किसी मास्क से।

यह भी पढ़े: पास्ता के लिए स्पेशल ट्रेन चला रहा है जर्मनी

फिलीपींस भी कोरोना से जंग लड़ रहा है। यहां कोरोना संक्रमण के तीन हजार से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं और डेढ़ सौ लोगों की जान जा चुकी है।राष्ट्रपति  रोड्रिगो डुटेर्टे ने एक अप्रैल को घोषणा की थी कि वे पुलिस और सेना को यह अधिकार देते हैं कि लॉकडाउन के नियमों का पालन ना करने वालों को गोली मार दी जाए।

राष्ट्रपति रोड्रिगो डुटेर्टे ने कहा, “स्थिति बिगड़ती जा रही है। इसलिए एक बार फिर मैं आप सब को इस समस्या की संजीदगी के बारे में बता रहा हूं और आपको इसे सुनना होगा।” पुलिस और सेना से उन्होंने कहा, “मेरा आदेश है कि अगर कोई भी दिक्कत हो और ऐसा मौका आता है जब आपकी जिंदगी पर खतरा मंडराता है, उन्हें गोली मार दो.” उन्होंने कड़े स्वर में अपनी बात को दोहराते हुए कहा, “मेरी बात समझ में आई? मार डालो। मैं कोई दिक्कत नहीं चाहता। मैं खुद उन्हें गाड़ दूंगा।”

राष्ट्रपति  के इस बयान पर मानवाधिकार संगठन एमनेस्टी इंटरनेशनल ने चिंता जताते हुए इसे “भयावह” बताया। एजेंसी ने कहा कि “कोविड-19 महामारी जैसी आपात स्थिति में घातक अनियंत्रित बल का इस्तेमाल कभी नहीं किया जाना चाहिए।”

यह भी पढ़े: लॉकडाउन : बढ़ेगी सिंगापुर की चुनौती

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com