Sunday - 1 August 2021 - 1:28 AM

फिजियोथेरेपिस्टों की उपेक्षा जनता के हित में नहीं

जुबिली स्पेशल डेस्क

लखनऊ। प्रोवेन्शियल फिजियोथेरेपिस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष अतुल मिश्रा ने बताया कि फिजियोथेरेपी एक चमत्कारी चिकित्सा पद्धति है।

आधुनिक युग में महत्वपूर्ण औषधि रहित व साइड इफेक्ट से परे, एक ऐसी विधा है जो पूर्णरूप से विभिन्न रोगों के उपचार में प्रभावी व कारगर है।

आज की भागदौड़ भरी व तनावपूर्ण जीवन शैली में हम प्राय: विभिन्न प्रकार की बीमारियों से ग्रसित हो जाते हैं क्योंकि शारीरिक देखभाल को दरकिनार कर हम अपने कार्यों व उत्तरदायित्वों का निर्वहन करने में समय गुजार देते हैं।

ऐसे में शारीरिक कमजोरी व अवसाद से ग्रसित होने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं। इसी संदर्भ में फिजियोथेरेपी एक महत्वपूर्ण विधा है जो शरीर को मजबूत बनाने में कारगर है। जिसके द्वारा जोड़ों को पूर्ण रूप से गतिशील व मांसपेशियों को सुदढ़ किया जा सकता है।

वर्तमान परिवेष में अधिकांश लोग कमर दर्द, गर्दन दर्द, गठिया, लकवा तथा अन्य विभिन्न प्रकार की व्याधियों से ग्रसित हो रहे हैं।

इन सब प्रकार की समस्याओं से निजात दिलाने में फिजियोथेरेपी पूर्ण रूप से प्रभावी व कारगर चिकित्सा पद्धति है, जिसमें बिना दवा प्रयोग किए मरीजों को शारीरिक रूप से सुदृढ़ बनाते हुए बीमारी से पूर्ववत अवस्था में लाने की कोशिश की जाती है। इस विधा में हीट थेरेपी, कोल्ड थेरेपी, इलेक्ट्रिक उपकरण, मैग्नेटिज्म व विभिन्न प्रकार के कसरतों का प्रयोग किया जाता है।।

मिश्रा ने कहा कि वैश्विक महामारी कोविड-19 ने पूरे विश्व में अफरा-तफरी मचा रखी है, जिसमें किसी भी प्रकार की औशधि का शत-प्रतिशत प्रभावित होना नहीं पाया गया, जिसके फलस्वरूप लाखों करोड़ों लोगों को जिंदगी से हारना पड़ा।

परंतु फिजियोथेरेपी चिकित्सा पद्धति ऐसे मरीजों के लिए वरदान साबित हुई, जिससे उनके श्वसन तंत्र को मजबूत बनाकर शरीर को सुदृढ़ता प्रदान करते हुए पहले की तरह जीवन प्रदान किया है तथा इस चिकित्सा पद्धति की महत्ता को सभी के द्वारा स्वीकार किया गया व सराहा गया।

कोविड-19 की द्वितीय खतरनाक लहर के दौरान बहुत से मरीज फेफड़ों के इंफेक्शन के चलते आईसीयू में व वेन्टिलेटर पर जिन्दगी की लड़ाई लडऩे में अक्षम थे, ऐसे में फिजियोथेरैपी चिकित्सा ने उनकों इससे निजात दिलाकर जिंदगी वापस दी। फिजियोथेरैपिस्ट ने अपनी जिंदगी पर खेलकर सेवाएं दी व बहुत से मरीजों को जीवनदान दिया।

प्रोवेन्शियल फिजियोथेरेपिस्ट एसो के महामंत्री  अनिल कुमार ने बताया कि उत्तर प्रदेश में लगभग 25 – 30 हजार फिजियोथैरेपिस्ट स्टेट मेडिकल फैकल्टी में इनरोल्ड हैं। महानिदेशक स्वास्थ्य द्वारा प्रस्तुत डाटा के अनुसार प्रदेश के राजकीय चिकित्सालय में 504 फिजियोथैरेपिस्ट तैनात हैं जिसमें केवल 57 फिजियोथैरेपिस्ट नियमित व 447 फिजियोथैरेपिस्ट संविदा के आधार पर है।

चिकित्सा शिक्षा में भी फिजियोथैरेपिस्टों की संख्या लगभग इतनी ही है। सरकारी अस्पतालों/संस्थानों में फिजियोथेरेपिस्टों की संख्या नगण्य है। जिसके कारण प्रदेश की जनता इस सुविधा का लाभ नही ले पा रही है। वही हजारों की संख्या में प्रशिक्षित फिजियोथेरेपिस्ट बेरोजगारी का दंष झेल रहे है।

एसो के अध्यक्ष अतुल मिश्रा व महामंत्री अनिल कुमार ने मा मुख्यमंत्री जी व मुख्य सचिव जी से मांग की है कि वर्तमान परिवेश व इस विधा की आवश्यकता को देखते हुए प्रदेश के समस्त विशिष्ठ संस्थान,जिला चिकित्सालय, सी.एच.सी., एवं पी.एच.सी. पर फिजियोथेरेपिस्ट की मानक के अनुसार पद सृजन व नियमित नियुक्ति हो,केन्द्र की भांति कैडर पुनर्गठन, संविदा पर कार्यरत फिजियोथैरेपिस्ट को जी. एन. एम. व ए. एन. एम. की भांति नियमित नियुक्ति में वरीयता प्रदान किये जाने का प्राविधान किया जाय। जिसमें प्रदेश की जनता को उक्त विधा का लाभ प्राप्त हो सके।

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com