Sunday - 23 February 2020 - 12:36 AM

कैसे हैक हुआ Amazon के जेफ बेजोस का फोन

न्यूज डेस्क

पिछले साल अक्टूबर माह में व्हाट्सएप ने अमेरिकी कोर्ट में जानकारी दी थी कि एक इजरायली फर्म ने एक साफ्टवेयर के जरिए भारतीय यूजर्स की जासूसी की है। इस खुलासे के बाद भारत में संग्राम छिड़ गया था। देश के अन्य मुल्कों में भी इसको लेकर खूब बहस हुई थी।

कहते हैं न हर चीज के दो पहलू होते हैं। एक सकारात्मक और दूसरा नकारात्मक। ऐसे ही टेक्नोलॉजी के साथ है। टेक्नोलॉजी ने जिदंगी को जितना आसान बनाया है, साथ ही थोड़ी मुश्किलों को भी बढ़ाया है। आए दिन फोन हैक करने से लेकर बैक एकाउंट हैक करने की खबरें सुनने को मिल रही है। हैकर्स फोन, सोशल मीडिया एकाउंट और बैंक एकाउंट हैक कर क्राइम कर रहे हैं।

हैकर्स आजकल हाई सिक्यॉरिटी टेक्नॉलजी को भी आसानी से बाईपास करके किसी को भी अपना शिकार बना ले रहे हैं। ऐसे ही हैकर्स का शिकार दुनिया की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी Amazon के मालिक जेफ बेजोस (Jeff Bezos) हुए हैं।

ऐसी खबर है कि जेफ का मोबाइल एक वॉट्सऐप मेसेज को रिसीव करने के साथ ही हैक हो गया। जिस नंबर से जेफ को मेसेज भेजा गया वह सउदी अरब के प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान का था। दावा किया जा रहा है कि कुछ ही घंटों में जेफ के मोबाइल से काफी ज्यादा डेटा की चोरी हुई है।

The Guardian की रिपोर्ट के मुताबिक जेफ और सउदी प्रिंस से बातचीत के दौरान एक विडियो सेंड किया गया था। यह वीडियो एक मलीशस फाइल थी जिसे जेफ के फोन में घुसपैठ के लिए डिजाइन किया गया था।

यह भी पढ़ें :कोच शास्त्री को क्यों है TEAM INDIA पर इतना भरोसा

यह भी पढ़ें : धोखाधड़ी : 14 बैंकों को 3500 करोड़ से ज्यादा का लगा चूना

वहीं इससे पहले अमेरिका की एक गॉसिप मैगजीन the National Enquirer  पर भी जेफ की निजी जानकारियों को लीक करने का आरोप लग चुका है। इसमें द वॉशिंगटन पोस्ट के कॉलम्निस्ट जमाल खशोगी के मर्डर से जुड़ी जानकारियों को भी लीक किया गया था।

बताते चलें कि द वॉशिंगटन पोस्ट अमेरिका का जाना-माना अखबार है और इसके मालिक भी बेजॉस ही हैं।

मालूम हो कि इससे पहले भी बेजोस के निजी जिंदगी पर नजर रखने की कोशिश की जा चुकी है। गॉसिप मैगजीन the National Enquirer ने जेफ और उनकी गर्लफ्रेंड (फॉक्स न्यूज की पूर्व ऐंकर लॉरेन सांचेज) के बीच हुई बातचीत को पब्लिश कर दिया था। इसके बाद साल 2019 में जेफ ने टैबलॉइड पब्लिशर पर ब्लैकमेलिंग और एक्सटॉर्शन का आरोप लगाया था।

जेफ का दावा था कि टैबलॉइड की पैरंट कंपनी American Media Inc ( AMI) ने उनसे कहा था कि उनकी निजी जिंदगी की रिपोर्टिंग का कोई राजनीतिक उद्देश्य नहीं है और अगर ऐसा होता तो टैबलॉइड में उनकी ढेरों गलत तस्वीरों को छापा जाता जिनमें कुछ बेहद अंतरंग फोटो भी शामिल थे।

फिलहाल मीडिया रिपोर्ट्स के बाहर आने के बाद जेफ को AMI और सउदी अरब के कनेक्शन का अंदाजा हुआ। उनका मानना है कि वॉशिंगटन पोस्ट में खशोगी के मर्डर को लेकर की गई कवरेज से सउदी अरब के प्रिंस खुश नहीं थे। दूसरी तरफ सउदी के विदेश मंत्री अदिल अल-जुबेर का कहना है कि इस मामले से सउदी अरब का कोई सबंध नहीं है।

यह भी पढ़ें :नसीरुद्दीन का खेर पर तंज, कहा-सीएए पर स्टैंड लेने के लिए हिम्मत चाहिए

यह भी पढ़ें :30 हजार करोड़ के बैड लोन से लहूलुहान एलआईसी

Loading...
English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com