Tuesday - 7 February 2023 - 6:02 PM

Lok Sabha Election : जानें लालगंज लोकसभा सीट का इतिहास

पॉलिटिकल डेस्क

लालगंज उत्तर प्रदेश का लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र है। लालगंज में रायबरेली जिले का सबसे बड़ा रेलवे स्टेशन है। लालगंज आजमगढ़ जिले का उप जिला है। काठघर लालगंज के नाम से भी जाना जाने वाला यह इलाका वाराणसी से 50 किलोमीटर की दूरी पर वाराणसी-आजमगढ़ हाईवे पर है। हनुमान मंदिर और भंवरनाथ मंदिर यहां के दो प्रमुख धर्मिक स्थल हैं। यहां के लोगों का मुख्य पेशा कृषि है। लालगंज की भूमि बहुत उपजाऊ है।

आबादी/शिक्षा

लालगंज लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र में उत्तर प्रदेश विधानसभा की पांच सीटें आती है जिसमें दीदारगंज, अतरौलिया, फूलपुर-पवई, निजामाबाद और लालगंज शामिल है। इनमे लालगंज की विधानसभा सीट अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित है। 2011 की जनगणना के अनुसार काठघर लालगंज की आबादी 5,81,647 है, जिनमें 2,80,992 पुरुष और 300,655 महिलायें है।

 

उत्तर प्रदेश के लिंगानुपात 912 के मुकाबले यहां प्रति 1000 पुरुषों पर 1070 महिलायें हैं । लालगंज के शहरी इलाकों में यह आंकड़ा 998 है, जबकि ग्रामीण इलाकों में 1072 है। लालगंज तहसील की साक्षरता दर 59.8 प्रतिशत है जिनमें पुरुषों की साक्षरता दर 68.33 प्रतिशत और महिलाओं की साक्षरता दर 51.82 प्रतिशत है। 629 वर्ग किलोमीटर में फैले इस क्षेत्र में 33.36 प्रतिशत अनुसूचित जाति और 0.23 प्रतिशत अनुसूचित जनजाति के लोग रहते है।

मुख्य रूप से यह इलाका हिन्दू बाहुल्य है। यहां 90.15 प्रतिशत लोग हिन्दू और 9.64 प्रतिशत आबादी इस्लाम को मानते है। यहां के कुल मतदाताओं की कुल संख्या 1,661,470 है जिसमें महिला मतदाता 754,613 और पुरुष मतदाता 906,738 है।

राजनीतिक घटनाक्रम

अस्तित्व में आने के बाद से ही यह लोकसभा सीट अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित रही है। 1962 में यहां पहली बार चुनाव हुआ, जिसमें ें प्रजा सोशलिस्ट पार्टी के विश्राम प्रसाद ने जीत दर्ज की। 1967 और 1971 के चुनाव में रामधन भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के टिकट पर और 1977 में भारतीय लोकदल के टिकट पर लगातार तीन बार चुनाव जीते।

वहीं 1980 लोकसभा चुनाव में जनता पार्टी (सेक्युलर) के छंगुर ने इस सीट पर कब्जा जमाया। इस सीट पर जहां 1984 में कांग्रेस(आई) का कब्जा रहा तो वहीं 1989 और 1891 में जनता दल ने परचम फहराया।इस सीट पर 1996 में यहां बसपा ने अपना खाता खोला और बलि राम विजयी रहे, वहीं 1998 में सपा के दरोगा प्रसाद सरोज ने जीत दर्ज की। अगले ही साल 1999 में हुए चुनाव में बसपा ने सपा को हराकर अपनी पिछली हार का बदला ले लिया।

2004 में सपा के दरोगा प्रसाद और 2009 में डॉक्टर बलि राम चुनाव जीतकर लालगंज के सांसद के रूप में निर्वाचित हुए। 2014 के चुनाव में बीजेपी की नीलम सोनकर ने जीत दर्ज की। वह लालगंज से निर्वाचित होने वाली पहली महिला सांसद बनी।

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com