Sunday - 17 January 2021 - 2:36 PM

तो क्या पुलिस कमिश्नरों की पॉवर कम करने की तैयारी में है सरकार

जुबिली न्यूज़ डेस्क

लखनऊ। यूपी के दोनों पुलिस कमिश्नर के अधिकार कम करने पर योगी सरकार लगातार विचार कर रहा है। प्रदेश के दोनों पुलिस कमिश्नरों के अधिकारों में कुछ कटौती की जानकारी सामने आयी है। दंड प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) की धारा 133 और 145 के तहत कार्रवाई का अधिकार फिर से जिला मजिस्ट्रेट को देने पर विचार चल रहा है।

दोनों धाराएं जमीन से जुड़े विवादों में कार्रवाई से संबंधित हैं। शासन ने इस संबंध में लखनऊ व गौतमबुद्धनगर (नोएडा) के जिलाधिकारियों से एक हफ्ते में रिपोर्ट मांगी है।

ये भी पढ़े: ICC Decade Awards : विराट जीत सकते हैं इतने अवॉर्ड्स

ये भी पढ़े: यूपी कैबिनेट ने लव जिहाद पर पास किया अध्यादेश, जल्द बनेगा कानून

अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी की तरफ से लखनऊ व नोएडा के जिलाधिकारियों को पत्र लिखकर दोनों धाराओं के तहत कार्रवाई का अधिकार फिर से जिला मजिस्ट्रेट को ही सौंप दिए जाने के संबंध में वस्तुपरक और औचित्यपूर्ण रिपोर्ट एक हफ्ते में उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है।

पत्र में कहा गया है कि लखनऊ और गौतमबुद्धनगर में पुलिस कमिश्नर प्रणाली लागू करने के संबंध में 13 जनवरी 2020 को जारी अधिसूचना में पुलिस कमिश्नर को कार्यपालक मजिस्ट्रेट, अपर जिला मजिस्ट्रेट और जिला मजिस्ट्रेट की शक्तियां प्रदान की गई थीं।

ये भी पढ़े: करते है लैंडलाइन फोन का इस्तेमाल तो जान लें अब ऐसे लगेगी कॉल

ये भी पढ़े: सरकार का बड़ा कदम, स्नैक वीडियो समेत 43 की दुकान बंद

इस तरह लखनऊ नगर और गौतमबुद्धनगर में तैनात संयुक्त पुलिस कमिश्नर, अपर पुलिस कमिश्नर, उप पुलिस कमिश्नर, अपर उप पुलिस कमिश्नर और सहायक पुलिस कमिश्नर को भी कार्यपालक मजिस्ट्रेट की शक्तियां प्रदान की गई थीं। इससे उन्हें सीआरपीसी की धारा 133 और 145 के तहत कार्रवाई का अधिकार भी मिला हुआ है।

क्या है धारा 133

सीआरपीसी की धारा 133 वहां लागू होती है, जहां विधि विरुद्ध जमाव या लोक न्यूसेंस की शिकायत होती है। इसके तहत कार्यपालक मजिस्ट्रेट को यह अधिकार होता है कि यदि कहीं उसे ‘न्यूसेंस’ की शिकायत प्राप्त होती है और उससे लोक शांति भंग होने का खतरा है तो वह सभी पक्षों की सुनवाई करके ‘न्यूसेंस’ को हटाने का आदेश दे सकता है। जनरेटर के धुएं, वाहन खड़े करने या आम रास्ता रोके जाने जैसे मामलों में ऐसे विवाद अक्सर होते रहते हैं।

क्या है धारा 145

सीआरपीसी की धारा 145 वहां लागू होती है जहां जमीन के स्वामित्व, कब्जे या जल से संबंधित विवादों के कारण लोक शांति भंग होने की संभावना हो। गांवों में ऐसे विवाद ज्यादा होते हैं। इसमें पुलिस की रिपोर्ट पर कार्यपालक मजिस्ट्रेट कार्रवाई करता है।

ये भी पढ़े: बनारस को स्मार्ट सिटी बनाने के लिए योगी का ये हैं प्लॉन

ये भी पढ़े: Ind vs Aus: टीम इंडिया की नई जर्सी आई सामने, आपने देखा क्या

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com