Saturday - 3 December 2022 - 7:20 PM

कुशीनगर मुख्य चिकित्साधिकारी पर लगे भ्रष्टाचार आरोप सही लेकिन फिर बचाने की हो रही साजिश

जुबिली स्पेशल डेस्क

लखनऊ ,कुशीनगर। उत्तर प्रदेश का स्वास्थ्य विभाग लगातार सुर्खियों में रहता है। हालांकि यूपी सरकार बेहतर सुविधा देने का दावा जरूर करती है लेकिन अब स्वास्थ्य विभाग में भ्रष्टाचार चरम जा पहुंचा है।

कही दवा घोटाला तो कही मेडिकल से जुड़ी चीजों की खरीद-फरोख में बड़ी गड़बड़ी भी समय-समय सामने आती रहती है। इतना ही नहीं विभागीय गड़बड़ी  भी अब किसी से छुपी नहीं है। ताजा मामला है यूपी के कुशीनगर का जहां पर स्वास्थ्य विभाग की मनमानी देखने को मिल रही है।

अभी तक कुशीनगर के अस्पताल अपनी कमियों का रोना रोता था लेकिन अब इसके अंदर भी भ्रष्टाचार  का दीमक लगता हुआ नजर आ रहा है। दरअसल कुशीनगर मुख्य चिकित्साधिकारी ने सारे नियम-कानून को ताक पर रखते हुए कर्मचारियों के तबादले कर दिया है। इसके आलावा अस्पताल के लिए खरीदी गई जरूरत की सामाग्री में बड़ा भ्रष्टाचार का खेल खेला है।

घपला करने के बाद अपने आप को पाक-साफ होने के लिए उन्होंने पूरा जोर लगा दिया है लेकिन मामला अब प्रकाश में आ गया है और आनन-फानन में जांच कमेटी बनी और जांच कमेटी जो रिपोर्ट सामने आ रही है उसमें कुशीनगर मुख्य चिकित्साधिकारी पूरी तरह से भ्रष्टाचार के दलदल में उनके पूरे पांव डूबते हुए नजर आ रहे हैं।

जांच कमेटी ने उनपर लगे सारे आरोपों को सही पाया है। उधर इस पूरे मामले पर पडरौना विधानसभा के सदस्य मनीष कुमार उर्फ मंटू के तेवर भी सख्त नजर आ रहे हैं। उन्होंने इस पूरे मामले को संज्ञान में लिया है और जांच के लिए एक एसआईटी गठित करने की मांग कर डाली है।

उन्होंने मीडिया को बताया है कि इस तरह के मामले में किसी भी तरह से दोषियों को छोड़ा नहीं जायेगा। वहीं उधर मामला तूल पकड़ता देखकर कुशीनगर मुख्य चिकित्साधिकारी को बचाने की कोशिशें अब तेज होती नजर आ रही है।

कुशनगर से जुड़े से सूत्र बता रहें कि कुशीनगर मुख्य चिकित्साधिकारी बचाने में सचिव के स्तर के एक बड़े अधिकारी इस मामले को न सिर्फ दबाने बल्कि उनको बचाने में अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। उनकी कोशिश है किसी भी तरह से मामला बाहर न आए बल्कि इसे अंदर सुलझा लिया जाये।

बीते कुछ दिनों से कुशीनगर का सरकार अस्पताल कई चीजों की वजह से सुर्खियों में रहा है। इससे पहले राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम) के अन्तर्गत 110 संविदा एएनएम की नियुक्ति में बड़े पैमाने पर अनियमितता बरते जाने पर दोषियों पर बड़ी कार्रवाई की गई थी।

जहां जिलाधिकारी के कड़े निर्देश के बाद विभाग ने जांच में दोषी पाए गए एक एसीएमओ और 3 अन्य के विरुद्ध विभागीय कार्रवाई के साथ ही सभी पर पडरौना कोतवाली में मुकदमा भी दर्ज कराया गया था।

उधर पडरौना विधानसभा के विधायक मनीष कुमार उर्फ मंटू ने इस पूरे मामले पर जहां कड़ा रूख अपनाया है। उनसे जुड़े सूत्र ने जानकारी दी है विधायक ने सीएम योगी को पत्र लिखकर इस पर कड़ा एक्शन लेने की मांग की है।

उन्होंने सीएम से मांग की है कि वो इस मामले में मुख्यचिकित्साधिकारी जनपद कुशीनगर को तत्कालीक प्रभाव से निलम्बित कर एसआईएटी जांच कराये ताकि आगे भ्रष्टïाचार पर लगाम लगाया जा सके।

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com