Thursday - 6 May 2021 - 5:51 PM

तब सड़कों पर पैदल चलते मजदूर थे, अब तामीर होती कब्रे और जलती चिताएं

जुबिली पोस्ट डेस्क 

लखनऊ। साल 2019  में चीन से शुरू हुआ कोरोना वायरस इस कदर फैला कि पूरी दुनिया संक्रमण की चपेट में आ गयी। इस संक्रमण के बचाव के लिए तरह-तरह की सावधानियां और जागरूकता के बावजूद लगातार बढ़ते संक्रमण को देखते हुए एक के बाद एक देश लाकडाउन जैसे गंभीर फैसले लेने को मजबूर हुए।

Coronavirus: New coronavirus variant found in United Kingdom, here's what we know - Times of India

वैज्ञानिकों की टीम भी जुटी इस संक्रमण के प्रभाव को रोकने की वैक्सीन बनाने में लेकिन साल 2020 के अंत तक कई देशों ने वैक्सीन पर सफलता प्राप्त की और तेजी से वैक्सीनेशन का काम शुरू हुआ। तेजी से हो रहे वैक्सीनेशन के बीच चीन से निकले कोरोना वायरस ने अपनी दूसरी लहर से एक बार फिर से दुनिया के कई देशों को चपेट में लेना शुरू कर दिया।

Uttar Pradesh caps RT-PCR coronavirus test at Rs 1,600 in private labs

कोरोना वायरस की पहली लहर में भारत ने कड़े फैसले करते हुए लाकडाउन लगा दिया था। हालाँकि लाकडाउन के बाद भारत के कई हिस्सों से बेहद गंभीर और मानवता को शमर्सार करने वाली तस्वीरें हर किसी के नज़र के सामने से जरूर गुजरी। जिसने चिंतन और मंथन करने को मजबूर किया।

गैरों पे करम-अपनों पे सितमः प्रवासी मजदूर वापस भेजने को तैयार CM योगी, UP वालों पर चुप्पी - cm yogi adityanath migrant laboures trapped lockdown there state government ready demand ...

देश के बड़े-बड़े शहरों से जब मजदूरों ने अपने गांव का रूख किया तो यातायात के सारे संसाधन बंद थे, लेकिन मजदूर तो मजदूर कहाँ मानने  वाले, निकल पड़े मजबूत इरादों के साथ सूनसान सड़कों पर। हजार से तीन हजार किलोमीटर के सफर पर जिसमे उनकों न भूख का ख्याल था न ही प्यास की परवाह थी। इस दौरान बहुत तरह की घटनाएं घटी कहीं रास्ते में महिला ने बच्चे को जन्म दिया, तो कही मजदूरों ने लाठी खाई, तो कहीं रेल से काटकर स्वर्ग को पहुंच गए तो कहीं सेनेटाइजर से उनको नहलाया गया तो कहीं लोगों में उनको खाना भी खिलाया और पानी भी पिलाया।

Coronavirus Lockdown : Petition Filed In Supreme Court To Request To Remove Troubles Of Migrant Workers, Labor - कोरोना लॉकडाउन: मजदूर 'पैदल' चलने को मजबूर, सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल - Amar

जैसे तैसे इस कठिन दौर से देश बाहर निकल ही रहा था, सैकड़ों हजारों किलोमीटर का पैदल सफर करके अपने गांव अपने परिवार के बीच पहुँच चुके मजदूरों की याद फिर से कंपनियों और फैक्ट्रियों को आयी और उनको वापस लाने के लिए रिज़र्व बसें तक कंपनियों ने भेजी और फिर ऐसा लगने लगा कि धीरे-धीरे सब कुछ सामन्य हो गया है।

Mamata Banerjee get letter pad ready with words former CM Suvendu Adhikari remark TMC vs BJP latest news | India News – India TV

राजनितिक पार्टियां चुनाव प्रचार में जुट गयी, शहरों में होटल से लेकर सिनेमाघरो में फिर से चहलकदमी होने लगी और हम सब लोग यह भूल गए कि संक्रमण कम हुआ है लेकिन खत्म नही। संक्रमण ने यही भूल का फायदा उठाया और पहले से ज्यादा विकराल रूप लेकर सामने आया।

Leading march on wheelchair, Mamata Banerjee says 'injured tiger more dangerous' - Elections News

जब तक लोग सतर्क और जागरूक होते तब तक काफी देर हो गयी। यह दूसरी लहर का बहुत तेजी से और विकराल रूप दिखने लगा हालत यह हो गए की बीते साल सूनसान सड़कों पर पैदल चलते मजदूर दिख रहे थे लेकिन उनमे इतनी ताकत और हौसला था कि  दो-तीन हजार किलोमीटर का सफर भी उनको कमज़ोर नहीं कर पा रहा था लेकिन इस बार अस्पताल से लेकर कब्रिस्तान और श्मसान तक में जगह नहीं बची।

Corona: धूं-धूं कर जलती चिताएं, कब्रिस्तान में भी लाशों की भीड़! डराने वाली है Lucknow की तस्वीरें - Cremation ground and graveyards overburdened in Lucknow - Coronavirus AajTak

बीते साल सूनसान सड़कों पर दिन रात पैदल चलते मजदूर थे, तो इस बार दिन-रात शमशान घाटों पर चिताएं जल रही है। कब्रिस्तान में लगातार कब्रें तामीर हो रही हैं। कुछ कब्रीस्तानों में तो कब्रों के लिए जगह ही नहीं रह गयी। श्मशान घाटों पर चिता को जलाने के लिए अस्थाई जगह बनाई गयी। हालत इस कदर ख़राब हुए कि बीते साल प्रशासन की सख्ती के बाद भी लोग सड़कों पर दिख जा रहे थे लेकिन इस बार लोग खुद से ही सड़कों पर निकलने से बच रहे हैं।

कोरोना की रफ्तार तेज, लखनऊ के कब्रिस्तान में नहीं है शव को दफनाने की जगह

अब हालात इतने ख़राब हो चुके हैं की ऑक्सीजन के लिए लोग लम्बी-लम्बी कतारों में अपनी बारी का इंतजार कर रहे है। सड़कों पर ऑक्सीजन और इलाज के आभाव में दम तोड़ते लोगों  की तस्वीरें जरूर डर पैदा कर रही हैं। सरकारें शायद इसी डर से जनता को निकालने के लिए बता रही हैं कि अस्पतालों में बेड और ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं है।

Coronavirus Updates Increased deaths from Corona waiting at cremation grounds from Delhi to Bhopal and Surat Huge crowds in cemeteries Jagran Special

सरकार के यह दावे की बेड और आक्सीजन की कोई कमी नहीं क्या इसको वह परिवार वाला सच मानेगा जिसने किसी अपने को खोया है। दिन रात एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल में भागदौड़ के दौरान उसके किसी अपने ने जान गवा दी हो। अंतिम संस्कार के लिए कब्रिस्तान और श्मसान में अपनी बारी का इंतजार कर रहे परिवार वाले के मन से यह डर इतनी जल्दी खत्म हो जाएगा यह बड़ा प्रश्नचिंह है।

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com