Tuesday - 7 February 2023 - 1:54 PM

वाया सोशल मीडिया : देश रसातल में जा रहा है और अमित शाह का बेटा मुनाफ़ा कमा रहा है

जुबिली न्यूज़ डेस्क

गृह मंत्री अमित शाह के बेटे जय शाह की आय में हुई बढ़ोतरी को लेकर फिर से कांग्रेस हमलावर हो गई है। एक रिपोर्ट के मुताबाकि, जय शाह की आय में 15 हजार गुना की बढ़ोतरी हुई है।

इस पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने तंज कसा है। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि अब इस खबर को कनपटी पर बंदूक रखकर दबा दी जाएगी।

वहीं मध्य प्रदेश कांग्रेस के ट्विटर हैंडल से कई ट्वीट करके जय शाह की आय में हुई बढ़ोत्तरी को लेकर तंज कसा गया है. इसमे लिखा है कि, देश रसातल में जा रहा है और अमित शाह का बेटा 15000% का मुनाफ़ा कमा रहा है।

अब भी नहीं समझे..? सुनिये और शेयर करिये।

एक अन्य ट्वीट में लिखा गया है कि, शाह ने फिर ज़्यादा खाया:

अमित शाह के बेटे की फर्म कुसुम फिनसर्व की आय 2014 में ₹79 लाख थी, जो 2019 में 120 करोड़ रुपये हो गई। 5 साल में लगभग 15,000 प्रतिशत की वृद्धि..! इसके पहले अमित शाह के बेटे को 16000 गुना मुनाफ़ा भी हो चुका है।

बता दें कि कांग्रेस पार्टी का कहना है कि गृह मंत्री अमित शाह के बेटे जय शाह की संपत्ति में बेतहाशा बढ़ोतरी दर्ज की गई है। पार्टी का कहना है कि जय शाह यह बताने में नाकाम रहे हैं कि उनकी कमाई का जरिया क्या है। अलग-अलग वक्त में अलग बयान आते रहे हैं।

दिल्ली में कांग्रेस मुख्यालय में प्रेस से बात करते हुए पार्टी प्रवक्ता ने पवन खेड़ा ने कहा कि जब केंद्र की मोदी सरकार यह कहती है कि देश में आर्थिक मंदी नहीं, वह इस बात को ध्यान में रखकर कहती है कि जय शाह की कंपनी बेतहाशा कमाई कर रही है। खेड़ा ने कहा कि जय शाह को देश के युवाओं और लोगों को यह बताना चाहिए कि उनकी कंपनी की कमाई में कुछ ही सालों में कई हजार गुना की बढ़ोतरी कैस हुई। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि अगर जय शाह यह बता दें तो देश के बाकी लोगों को भी फायदा हो जाएगा।

कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा, “देश में एक शाह वंश है और उसके राजकुमार जय अमित शाह की कम्पनी का लेखा-जोखा देखने पर हमें भी विश्वास हो जाएगा कि आर्थिक मंदी नहीं है। इस शाह वंश के चमत्कारिक व्यापार के नए उदाहरण सामने आए हैं।”

पवन खेड़ा ने कहा, “व्यापारी को कम्पनी का लेखा-जोखा हर साल 30 अक्टूबर तक एमसीए में दर्ज करवाना होता है। ऐसा न करने पर सजा के तौर पर 5 लाख के दंड का प्रावधान है। जय अमित शाह ने 2017 और 18 का लेखा-जोखा जमा नहीं करवाया। लेकिन, शाह वंश के राजकुमार पर सजा के प्रावधान लागू नहीं होते। जय अमित शाह लेखा-जोखा दर्ज कराने के लिए लोकसभा चुनाव के खत्म होने का इंतजार करते हैं और उसके बाद अपनी कंपनी कुसुम फिनसर्व का लेखा-जोखा जमा कराती है। आखिर क्यों चुनाव खत्म होने की प्रतीक्षा की गई?”

कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा, “जय शाह की कंपनी कुसुम फिनसर्व की वार्षिक आय 2014 के 80 लाख के मुकाबले 2019 में 119.61 करोड़ हो गई। शुद्ध संपत्ति 2015 के 1.21 करोड़ के मुकाबले 2019 में 25.83 करोड़ हो गई। शुद्ध अचल परिसंपत्ति 2015 के 51.74 लाख से 2019 में 23.25 करोड़ हो गई। जय अमित शाह की कम्पनी की चालू संपत्ति 2015 के 37.80 लाख के मुकाबले आज 33.44 करोड़ हो गई यानी लगभग 88 गुना की बढ़ोतरी। 2017 में यह बढ़ोतरी 216 गुना थी। जय अमित शाह की इस कम्पनी पर सारे देवता मेहरबान हैं। वो जो चाहे, वो ऋण ले सकते हैं।”

पवन खेड़ा ने पूछा, “शाह वंश के राजकुमार जय अमित शाह की यह कम्पनी किस तरह का व्यापार करती है, इस बारे में कुछ भी स्पष्ट नहीं है। तो आखिर यह कौनसा उद्योग है, जिससे इनकी आय में 15,000 गुना की बढ़ोतरी हो गई है।”

यह भी पढ़ें : गांधी पूजा के भाजपाई अनुष्ठान में पार्टी के लिए खतरे

यह भी पढ़ें : तो क्या सरकार को पहले से थी व्हाट्सएप जासूसी की जानकारी

यह भी पढ़ें : बिना एनसीपी के कैसे बनेगी कोई सरकार!

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com