Wednesday - 5 August 2020 - 2:58 PM

2018 और 2019 के बीच करीब 60 लाख लोग हुए बेरोजगार

न्यूज डेस्क

देश में बेरोजगारी के आंकड़े डरावने होते जा रहे हैं। आर्थिक मंदी की वजह से नौकरियों पर संकट बढ़ता जा रहा है। यह स्थिति कब सुधरेगी इसके आसार अभी नजर नहीं आ रहे है। फिलहाल एक रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि बेरोजगारी अक्टूबर माह में तीन साल के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई है।

सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (सीएमआईई) के द्वारा जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार अक्टूबर माह में बेरोजगारी दर 8.5 फीसदी रही, जो कि अगस्त 2016 के बाद का सबसे उच्चतम स्तर है। यह इस साल सितंबर में जारी किए गए आंकड़ों से भी काफी ज्यादा है।

अजीम प्रेमजी विश्वविद्यालय के सेंटर फॉर सस्टेनेबल इंप्लायमेंट के द्वारा जारी एक रिसर्च में दावा किया गया है कि पिछले छह सालों में लोगों को रोजगार मिलने की संख्या में काफी गिरावट आई है।

2011-12 से लेकर के 2017-18 के बीच 90 लाख लोगों को अपनी नौकरी गंवानी पड़ी। भारत के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है। देश के तीन राज्यों में स्थिति सबसे ज्यादा खतरनाक हो गई है।

सीएमआईई के आंकड़ों के अनुसार त्रिपुरा, हरियाणा और हिमाचल प्रदेश में लोगों को नौकरियां ढूंढने पर भी नहीं मिल रही हैं। त्रिपुरा में बेरोजगारी दर 23.3 फीसदी रिकॉर्ड की गई है।

यह भी पढ़ें : ‘वायु प्रदूषण के लिए कैप्टन और खट्टर अंकल को लिखें पत्र’

यह भी पढ़ें :किस साफ्टवेयर से हुई थी व्हाट्सएप की जासूसी

सीएमआईई के एमडी और सीईओ महेश व्यास के अनुसार भारत के ग्रामीण और शहरी इलाकों में बेरोजगारी लगातार बढ़ रही है। इसमें भी शहरी इलाकों में लोगों को नौकरियां नहीं मिल रही हैं। ऑटो सहित कई सेक्टर में हालत बिगडऩे से भी यह असर देखने को मिल रहा है। टेक्सटाइल, चाय, एफएमसीजी, रियल एस्टेट जैसे सेक्टर में भीषण मंदी आई है।

जो डाटा सीएमआईई ने जारी किया था उसके मुताबिक 2016 से 2018 के बीच 1.1 करोड़ लोगों को नौकरी से हाथ धोना पड़ा था। फरवरी 2019 में बेरोजगारी का आंकड़ा 7.2 फीसदी पर पहुंच गया। वहीं पिछले साल फरवरी में यह आंकड़ा 5.9 फीसदी था।

रिपोर्ट के अनुसार जहां पिछले साल 40.6 करोड़ लोग नौकरी कर रहे थे, वहीं इस साल फरवरी में यह आंकड़ा केवल 40 करोड़ रह गया। इस हिसाब से 2018 और 2019 के बीच करीब 60 लाख लोग बेरोजगार हो गए।

इसके अलावा इसी साल मई में जारी रिपोर्ट में कहा गया था कि शहरी क्षेत्रों में बेरोजगारों की संख्या 7.8 फीसदी रही, वहीं ग्रामीण इलाकों में यह 5.3 फीसदी रही थी। रिपोर्ट में कहा गया था कि नोटबंदी के चलते नई नौकरियों की संख्या में काफी गिरावट आ गई थी, जो अभी संभली नहीं है।
यह भी पढ़ें :  ट्रंप क्यों बदल रहे हैं अपना स्थायी पता

यह भी पढ़ें :‘कॉलेजियम सिस्टम में पर्याप्त पारदर्शिता’

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com