Friday - 26 February 2021 - 4:04 AM

तो ‘औरंगाबाद’ की वजह से खतरे में पड़ सकती है उद्धव सरकार

जुबिली न्‍यूज डेस्‍क

उत्‍तर प्रदेश की योगी सरकार पर कांग्रेस अक्‍सर शहरों के नाम बदलने को लेकर निशाना साधती रही है। शहरों के नाम बदलने की राजनीति की शुरूआत वैसे तो यूपी के सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने की है लेकिन अब इस राह पर महाराष्‍ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे पर चले पड़ें हैं।

दअरसल, महाराष्‍ट सरकार औरंगाबाद का नाम बदलकर संभाजीनगर रखना चाहती है, जिसका गठबंधन सरकार में उनकी सहयोगी कांग्रेस ने विरोध जताया है। कांग्रेस के विरोध के बाद शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में कांग्रेस के धर्मनिरपेक्ष होने और नाम परिवर्तन का विरोध करने के लिए हमला किया है।

“सामना” के एक संपादकीय में कहा गया है कि औरंगाबाद का नाम बदलने से धर्मनिरपेक्ष दलों के वोट बैंक पर असर पड़ सकता है, क्योंकि नाम बदलने से मुस्लिम समाज नाराज होगा।

संपादकीय में लिखा गया है, “भारत का संविधान धर्मनिरपेक्ष था। औरंगजेब को अन्य धर्मों से सख्त नफरत थी। उसने सिखों और हिंदुओं पर अत्याचार किया। हमें उनके अवशेषों पर ध्यान क्यों देना चाहिए? औरंगजेब कौन था? कम से कम महाराष्ट्र को यह समझाने की जरूरत नहीं है। इसलिए एक सच्चे मराठी और कट्टर हिंदू व्यक्ति को औरंगज़ेब से लगाव होने का कोई कारण नहीं है।”

ये भी पढ़ें: अमेरिका में हाई अलर्ट, छावनी में तब्‍दील हुआ वाशिंटन डीसी

आगे लिखा है, “औरंगाबाद का नाम बदलकर संभाजीनगर करने को लेकर एक राजनीतिक विवाद छिड़ गया है। कांग्रेस जैसी सेक्युलर पार्टियां औरंगाबाद को संभाजीनगर का नाम देने के पक्ष में नहीं हैं। औरंगाबाद का नाम बदलने से मुस्लिम समाज नाराज हो जाएगा।यानी, अल्पसंख्यकों का उनका वोट बैंक प्रभावित होगा। इसका अर्थ यह है कि उनकी धर्मनिरपेक्ष छवि पर सवाल उठाया जाएगा।”

महा विकास अगाड़ी (एमवीए) सरकार जिसमें शिवसेना, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा), और कांग्रेस शामिल हैं, ने नवंबर 2020 में एक साल का कार्यकाल पूरा किया था। आपको बता दें कि चुनाव परिणाम सामने आने के बाद शिवसेना, भाजपा नीत एनडीए से बाहर हो गई।

ये भी पढ़ें: कोरोना वैक्सीन लगवा रहे हैं तो ये सावधानी बरतिये वर्ना…

संपादकीय में आगे कहा गया है कि महाराष्ट्र में ऐसे लोगों का एक बड़ा वर्ग है जो नाम बदलने के पक्ष में हैं। आगे लिखा है, “क्या औरंगाबाद का नामकरण लोगों के विकास की समस्या को हल करता है? नाम बदलने का विरोध करने वाले इस तरह के मुद्दे को उठा रहे हैं।

हालांकि, कम से कम महाराष्ट्र में औरंगजेब का कोई निशान नहीं रखा जाना चाहिए। लोगों का एक बड़ा वर्ग है, जो इसके पक्ष में हैं। औरंगज़ेब के आदेश पर, महाराष्ट्र के राजा संभाजी को मुगल सरदारों द्वारा प्रताड़ित और मार डाला गया और उनके शव को पुणे के पास सड़क पर फेंक दिया गया।”  शिवसेना ने महाराष्ट्र के नेताओं से औरंगज़ेब के इतिहास को फिर से पढ़ने के लिए कहा।

आदित्य ठाकरे ने एक कार्यक्रम में कहा, ‘हिंदू हृदयसम्राट शिवसेना प्रमुख बालासाहेब ठाकरे का संभाजीनगर सबसे पसंदीदा शहर रहा है, इसलिए राज्य की महाविकास आघाड़ी सरकार संभाजीनगर पर निर्णय एकमत से लेगी। शिवसेनाप्रमुख बालासाहेब ठाकरे ने जो सपना महाराष्ट्र को लेकर देखा है, वह हम पूरा करेंगे।’

ये भी पढ़ें: विदेश नीति पर राहुल के तर्क और जयशंकर का जवाब

इससे पहले केंद्रीय मंत्री और आरपीआई (ए) नेता रामदास आठवले कह चुके हैं कि औरंगाबाद का नाम बदलने पर महाराष्ट्र सरकार गिर सकती है। इसके साथ ही उन्होंने सत्तारूढ़ गठबंधन से कहा कि वह इस मुद्दे पर किसी विवाद में नहीं उलझे।

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com