Thursday - 29 October 2020 - 6:39 PM

अब इनके आंसू पोछने की हो रही है बात

जुबिली न्यूज़ डेस्क

वाकई इंटरनेट में बहुत ताकत होती है। तभी तो कुछ दिन पहले तक जहां बाबा का ढाबा के बारे में किसी को कोई जानकारी नहीं थी लेकिन अब ये राजधानी दिल्ली के मालवीय नगर जैसे इलाके का लैंडमार्क बन चुका है। आने वालों का यहां जमावड़ा लगा पड़ा हुआ है। ये सब मुमकिम हुआ तो कैसे आप यही सोच रहे होंगे न तो हम आपको बताते हैं बाबा का ढाबा के पीछे की कहानी।

दरअसल दिल्ली के मालवीय नगर में एक बुजुर्ग दंपती ‘बाबा का ढाबा’ चलाते हैं। ये ढाबा बुजुर्ग दंपति के जीवनयापन का एक जरिया है। कुछ दिनों पहले तक इस ढाबे को कोई नहीं आता था पहचानता था। लेकिन अब इस ढाबे पर इतनी भीड़ होने लगी की बाबा का ढाबा यहां का लैंडमार्क बन गया। और ये सब हुआ सिर्फ एक वीडियो से।

इंटरनेट पर ‘बाबा का ढाबा’ चलाने वाले बुजुर्ग दंपती का एक वीडियो वायरल हुआ था।इस वीडियो में बाबा रोते हुए अपने बुरे हालातों के बारे में बता रहे थे। फिर क्या, सोशल मीडिया पर ये वीडियो इतना वायरल हुआ कि अगले ही सुबह ‘दिल्ली के दिलवालों ने उनके ढाबे के बाहर पहुंचकर लाइन लगा दी’।

यही नहीं बाबा के ढाबे की चर्चा टीवी से लेकर अखबार तक हर जगह होनी लगी। बाबा के ढाबे पर लोगों की लाइन लगने लगी। जो बाबा आधा किलो दाल एक दिन में नहीं बेच पाते थे वो अब बेहद खुश हैं। बुजुर्ग दंपति का ढाबा अच्छे से चलने लगा है।

बाबा के ढाबे की तस्वीर पूरी तरह से बदल गई है।अब उनका ढाबा विज्ञापनों से ढक चुका है।अब लोग सिर्फ यहां खाने ही नहीं बल्कि सेल्फी लेने भी आते हैं। बता दें, 80 वर्षीय बाबा और उनकी पत्नी अब खुश हैं। उन्होंने मीडिया से कहा था कि हम जैसे बहुत हैं जिनकी मदद होनी चाहिए।

वहीं, दिल्ली के मालवीय नगर के इस बुजुर्ग दंपती का वीडियो वायरल होने के बाद सोशल मीडिया पर और कई बुजुर्गो की कहानी शेयर की जा रही हैं जो बाबा की तरह मुश्किलों का सामना कर रहे हैं।

सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है जो असम के धुबरी का बताया जा रहा है। वायरल हो रहे वीडियो में आप देख सकते हैं कि एक बुजुर्ग अम्मा सड़क किनारे चूल्हे पर पकौड़े बना रही हैं। इसके साथ ही वीडियो में शख्स अम्मा की मदद के लिए गुहार लगा रहा है।

दिल्ली के ही सेक्टर-3, फरीदाबाद में बंगाली दादा पकौड़े वाले का पोस्ट वायरल हो रहा है। दादा अपनी पत्नी के साथ 15 साल से सेक्टर-3, फरीदाबाद में अपनी छोटी सी रेहड़ी लगाते हैं। इनका एक लड़का है जो कि अपाहिज़ है और दो पोतियां है। लॉकडाउन के पहले लोग यहां पकोड़े खाने आया करते थे

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com