Wednesday - 8 February 2023 - 11:17 PM

इस गंदी चड्ढी में ऐसा क्या था जिसने साबित की बगदादी की मौत

राजीव ओझा

आतंकियों का “रावण” बगदादी अंततः मारा गया। दुनिया के सबसे खूंखार आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट(आईएस) का सरगना था अबुबकर बगदादी। वैसे तो बगदादी कई बार मारा जा चुका था लेकिन इस बार वह पक्के तौर पर मारा गया है। इसकी पुष्टि बगदादी की चड्ढी से हुई। बगदादी के शव को भी ओसमा बिन लादेन की तरह महासगर में अज्ञात स्थान पर दफना दिया गया।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप का इस बारे में आधिकारिक बयान भी आ चुका है। इस पर भरोसा इस लिए भी किया जा सकता है कि इस बार बगदादी के डीएनए को मैच करने के बाद उसकी मौत की पुष्टि की गई है। डीएनए फोरेंसिक साइंस का अचूक शस्त्र है और इसमें संशय की कोई गुंजायश नहीं रहती।

जासूस ने चुरा ली थी बगदादी की चड्ढी

उत्तर पश्चिमी सीरिया में तुर्की सीमा के पास मारे गए बगदादी के डीएनए को उसकी चड्ढी में मिले डीएनए के अंश से मैच कराया गया। दोनों डीएनए सौ फ़ीसदी समान पाए गए। इसके बाद  ही अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने इसकी घोषणा की। अब सवाल उठाता है की बगदादी के मारे जाने से पहले अमेरिकी खुफिया एजेंसी को बगदादी की चड्ढी मिली कैसे ?

दरअसल कुर्दों के नेतृत्व वाली सीरियाई डेमोक्रेटिक फोर्सेज (एसडीफ़) का कहना है कि उसने पहले बगदादी तक पहुँचने के लिए पहले उसके करीबियों तक पहुँच बनाई। फिर एक कुर्द लड़ाके ने घरेलू  सहायक बन बगदादी के गंदे कपडे जिसमें चड्ढी भी शामिल थी, चुरा लिए। उस लड़ाके ने अमेरिकी खुफिया एजेंसी को बगदादी के खून का नमूना भी मुहैया कराया था। घरेलू नौकर बने उस एजेंट ने बगदादी के छुपने के ठिकाने का पूरा नक्शा भी मुहैया कराया था।

कैसे कपड़ों से होती है डीएनए की मिलान

अब आपको बताते हैं कि डीएनए कैसे मैच कराया जाते हैं। अज्ञात मानव स्रोत से प्राप्त किये गए निम्न स्तर के डीएनए को  अक्सर ट्रेस डीएनए के रूप में जाना जाता है। इसे आसानी से कहीं से भी प्राप्त किया जा सकता है।

इसके नमूने  प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष तरीकों से  प्राप्त किये जा सकते हैं। ये वस्तुएं कपडे, कंघी, टूथ ब्रश या ऐसी कोई चीज हो सकती है जो मानव शरीर से नियमित सम्पर्क में आती हो। इन वस्तुओं पर स्थानांतरित डीएन लम्बे समय तक मौजूद रहता है। अपराध के मामलों में घटना स्थल से मिले कपड़ों को अक्सर ट्रेस डीएनए के तौर पर विश्लेषण के लिए एक पुख्ता साक्ष्य के रूप में प्रस्तुत किया जाता है।

आमतौर पर व्यक्ति की पहचान करने के लिए इसे एक पुख्ता सबूत माना जाता है

किसी व्यक्ति के कपडे के अगले भाग, कन्धों और पिछले भाग का दस सेंटीमीटर का हिस्सा डीएनए ट्रेस करने के लिए पर्याप्त होता है। अगर किसी ने वह कपडा लगातार आठ घंटे पहना हो कपडे को तो इस कपडे पर उसके डीएनए के ट्रेस आठ गुना तक बढ़ जाते हैं। चड्ढी और ब्रा जैसे अन्तः वस्त्रों में डीएनए के ट्रेस सुआ फीसदी तक होते हैं। इसी तरह हाल ही में धोए गए कपड़ों में डीएनए के ट्रेस मिलने की सम्भावना 74 फ़ीसदी होती है।

मतलब अगर किसी कपडे को व्यक्ति ने पहले भी पहना है तो धुलाई के बाद भी उसके डीएनए के ट्रेस कपड़ों में मौजूद रहते है और अगर दोबार उसने यह कपड़ा आठ घंटे तक पहन लिया तो या ट्रेस और पुख्ता हो जाता है। बगदादी की चड्ढी, कपडे और खून के नमूने खुफिया एजेंसी के पास पहले से थे। जब उसके  शव से डीएनए लेकर इनसे मिलान की गई तो सभी डीएनए ट्रेस सुआ फ़ीसदी मिल गए और इसके बाद राष्ट्रपति ट्रंप ने बगदादी के मारे जाने की घोषणा कर दी। अब संशय की कोई गुंजायश नही बची है।

(लेखक वरिष्‍ठ पत्रकार हैं, लेख उनके निजी विचार हैं)

यह भी पढ़ें : माहौल बिगाड़ने में सोशल मीडिया आग में घी की तरह

यह भी पढ़ें : साहब लगता है रिटायर हो गए..!

यह भी पढ़ें : आजम खान के आंसू या “इमोशनल अत्याचार” !

यह भी पढ़ें : काजल की कोठरी में पुलिस भी बेदाग नहीं

यह भी पढ़ें : व्हाट्सअप पर तीर चलने से नहीं मरते रावण

ये भी पढ़े : पटना में महामारी की आशंका, लेकिन निपटने की तैयारी नहीं

ये भी पढ़े : NRC का अल्पसंख्यकों या धर्म विशेष से लेनादेना नहीं

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com