Thursday - 2 February 2023 - 1:42 AM

खुलेआम बाजार में बिक रही वो दवाएं, जो विदेशों में हैं प्रतिबंधित

सुप्रीम कोर्ट ने देश में कई दवाओं प्रतिबंधित किया हैं, लेकिन क्या आप जानते है कि दूसरे देशों में प्रतिबंधित कुछ दवाएं भारतीय बाजार में आसानी से उपलब्ध हैं। लोग बिना किसी खतरे के आभास हुए इन दवाओं को खा रहे है।आइए जानते हैं ऐसी ही कुछ दवाओं के बारें में…

फेनीलप्रोपेनोलामिन (PHENYLPROPANOLAMINE):-

फेनीलप्रोपेनोलामिन नाम की यह दवा सर्दी और खांसी को ठीक करने के लिए दी जाती है। हालांकि कई देशों ने इसे इसलिए प्रतिबंधित किया है क्योंकि इसके सेवन से स्टोक का खतरा हो सकता है।
ब्रांड का नाम: विक्स एक्शन – 500

एनलजिंन (ANALGIN):-

एनलजिन एक पेनकिलर है। कई देशों में एनलजिंन की बिक्री और सेवन पर प्रतिबंध है, क्योंकि उनका मानना है कि एनलजिंन लेने से अस्थि मज्जा अवसाद (Bone marrow depression) हो सकता है। हालांकि भारत में भी इस मेडिसिन पर प्रतिबंध लगा हुआ है, लेकिन जानकारी के अभाव में लोग इसका सेवन करते हैं।
ब्रांड का नाम: नोवालजिंन

सिसप्राइड (CISAPRIDE):-

सिसप्राइड नाम की इस दवा को अम्लता, कब्ज (एसिडिटी, कांस्टीपेशन) के इलाज के लिये दिया जाता है। हालांकि कई देशों में इसके सेवन से दिल की धड़कन अनियमित हो जाने की आशंका के चलते इसे प्रतिबंधित किया है।
ब्रांड का नाम: सइज़ा, सिसप्राइड

 

ड्रोपरिडोल (DROPERIDOL):-

ड्रोपरिडोल एक अवसाद विरोधी दवा है। लेकिन कई देशओं में इसके खरीददारी और बिक्री पर रोक लगी है। ऐसा माना जाता है कि ड्रोपरिडोल के सेवन से दिल की धड़कन अनियमित हो सकती है।
ब्रांड का नाम: ड्रोपरोल

 

फ्लूपेंथिक्‍सोल (FLUPENTHIXOLE):-

बाजार में यह डीनजिट, प्‍लेसिडा, फ्रैंक्सिट जैसे ब्रांडों के साथ मौजूद है। तनाव के लिए इसका प्रयोग किया जाता है। इसे प्रयोग करने के बाद खुजली या कई अन्य साइड इफेक्‍ट हो सकते हैं जिसके कारण डेनमार्क, ब्रिटेन, यूरोपियन देशों, कनाडा, जापान आदि देशों में इस दवा पर प्रतिबंध लगा हुआ है।

फ्यूरोज़ोलिडोन (FURAZOLIDONE):-

फ्यूरोज़ोलिडोन एक एंटीडाइरियल दवा है। अतिसारजनक स्थिति में इस दवा को दिया जाता है, हांलाकि कई दोशों में इस दवा पर इस लिए प्रतिबंध है कयों कि इसके सेवन से कैंसर हो सकता है।
ब्रांड का नाम: फुरोक्सोन, लोमोफेन

लेट्रोजॉल (Letroz Tablet):-

लेट्रोजॉल भारत में लेट्रोज, लेटोवल ब्रांड के नाम से बेची जाती है। इसे फीमेल इनफर्टिलिटी के इलाज के लिए मंजूरी मिली हुई है। हालांकि दुनिया के कई देशों में लेट्रोजॉल प्रतिबंधित दवा है, लेकिन भारत में इसकी बिक्री की अनुमति है। गौरतलब है कि भारत में लेट्रोजॉल का सालाना कारोबार लगभग 45 करोड़ रुपये का है।

नीमेसुलाइड (NIMESULIDE):-

नीमेसुलाइड एक पेनकिलर दवा है, जिसे नसों में दर्द को खतम करने के लिए दिया जाता है। लेकिन कई दोशों ने इसे इसलिए प्रतिबंधित किया हुआ है क्योंकि यह लीवर के लिए घातक हो सकती है।
ब्रांड का नाम: नाइस, निमुलेड

Lok Sabha Election: जाने क्या है कानपुर लोकसभा सीट का इतिहास

पायोग्लिटाजोन (PIOGLITAZONE):-

डायविस्‍टा, पायग्‍लार, पायोग्लिट, पायोज, पियोजोन जैसे नामचीन ब्रांडों वाली ये दवा बाजार में धडल्ले से उपलब्‍ध है। यह मधुमेह के इलाज के दौरान प्रयोग की जाती है। इसके कारण ब्‍लैडर कैंसर हो सकता है, इसके अलावा दिल की विफलता की संभावना बन सकती है। गौरतलब है कि फ्रांस और जर्मनी में यह दवा प्रतिबंधित है।

English

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com